|

Google AMP क्या है? | Accelerated Mobile Pages के फायदे

Google AMP Accelerated Mobile Pages Kya Hai

Google AMP क्या है? | Accelerated Mobile Pages के फायदे

आपको पता है की मोबाइल यूजर्स की वर्ल्ड वाइड बहुत तेजी से वृद्धि हुई है। वेब पेज आपके मोबाइल ब्राउजर के लिए फास्ट ओपन हो इसके लिए गूगल अन्य सर्च इंजन अपनी रैंकिंग में बदलाव करता है। और मोबाइल फ्रेंडली साइट्स/पेज को खास तवज्जो दी।

ब्लॉगर्स और वेब डिज़ाइनर्स ने भी अपनी साइट में बदलाव किया और फ्रेंडली साइट्स बनाना शुरू किया। और ये सही भी है अगर आपके मोबाइल ब्राउजर पर कोई वेब पेज फास्ट लोड नहीं हो रहा है तो विजिटर आपकी साइट को छोड़स कते हैं।

लेकिन इस समस्या का समाधान क्या है?

Google AMP: Accelerated Mobile Pages

प्रो ब्लॉगर्स किसमेट्रिक्स के लेखक नील पटेल की माने तो अगर आपकी वेबसाइट ओपन होने में 3 सेकेंड्स से अधिक का टाइम लेटी है, तो यूजर्स आपकी साइट को छोड़ कर सकते हैं।

आपको पता है एक ऑनलाइन शॉपिंग साइट रोजाना $100,000 की कमाई कर रही है। और अगर ये साइट 1 सेकंड की देरी से खुलेगी तो करीब है $2.5 मिलियन की बिक्री का नुक्सान हो सकता है।

Google के अनुसार AMP plugin का प्रयोग करके आप साइट के लोड टाइम में 15% से 25% तक की कमी की जा सकती है। गूगल ने अक्टूबर 2015 में एएमपी प्रोजेक्ट के बारे में घोषणा की थी। दिसंबर 2015 में Accelerated Mobile Pages रैंकिंग फ़ैक्टर बैन गया।

इसके बाद गूगल की सर्च रैंकिंग, गूगल वेबमास्टर टूल्स, एसईओ और डिजिटल मार्केटिंग इंडस्ट्री पर बहुत फर्क पड़ा जोकी होना ही था।

Google Accelerated Mobile Pages [AMP] Kya Hai?

एएमपी प्लगइन का जन्म ट्विटर और गूगल के सहयोग से हुआ।

आसान शब्दों में कहें तो एक्सेलेरेटेड मोबाइल पेजेस एक ओपन सोर्स प्रोजेक्ट है, जो आपके वेबसाइट के डिजाइन को ऑप्टिमाइज करने के लिए तेजी से मोबाइल पेज में चेंज करता हूं। आपके विज़िटर्स को ऐसा महसूस होता है कि ये पहले से डिज़ाइन किया गया मोबाइल पेज है।

एक्सेलेरेटेड मोबाइल पेजेस (एएमपी) एक ओपन सोर्स पहल परियोजना / मंच है जिसका उद्देश्य प्रकाशकों को उनके मोबाइल सामग्री पृष्ठों की गति और पठनीयता में सुधार करने में मदद करना है।

तेज़ मोबाइल पेज + पठनीय सामग्री = बेहतर उपयोगकर्ता अनुभव

Accelerated Mobile Page Kaise Kaam Karta Hai?

Google AMP साइट का लोड टाइम कम करके साइट को ऑप्टिमाइज करना जैसा है। जब कोई यूज़र एएमपी प्लगइन का उपयोग करता है, और ऐसी साइट पर कोई विजिटर आता है तो मोबाइल ब्राउज़र का उपयोग करने के लिए केवल जरुरी कंटेंट ही लोड होता है।

जब किसी साइट में एएमपी एनेबल होता है, वेब पेज का कैश फ़ाइल उपयोग करने के लिए Google एएमपी में स्टोर हो जाता है। कोई विज़िटर जब साइट को एक्सेस करता है तो उपयोग करने के लिए Google amp इंस्टेंट वेब पेज को उपलब्ध करवा देता है।

आम तौर पर जो कैशे प्लगइन्स होते हैं उसमे पेज के सभी कंटेंट शो होते हैं। लेकिन AMP पेज का बस जरुरी कंटेंट ही मोबाइल ब्राउजर पर डिस्प्ले करता है। मान लेते हैं आपकी साइट के हेडर, फुटर या साइडबार में कोई अतिरिक्त विजेट है तो ये विजिटर्स को शो नहीं होता है।

अगर आप एएमपी यूज़ कर रहे हैं तो आपके साइट का यूआरएल कुछ इस तरह की होगी।

  • यूआरएल : http://www.example.com
  • एएमपी यूआरएल: http://www.example.com/amp
google-amp-accelerated-mobile-pages

यानी आपके सभी यूआरएल के AMP होगा। वैसा मैं आपको बता दूं जो बड़ी कंपनियां हैं वो भी AMP का इस्तेमाल करती हैं। जैस पिंटरेस्ट, फ्लिपबोर्ड आदि।

अगर आपने अपनी साइट amp एनेबल किया है सर्च इंजन मुझे परिणाम कुछ इस तरह दिखेंगे।

google-amp-accelerated-mobile-pages

क्या एएमपी जरूरी है?

इससे पहले कि हम Google AMP के pros and cons में शामिल हों, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि AMP आपके SEO में मदद कर सकता है, लेकिन कुछ मामलों में SEO के लिए यह आवश्यक नहीं है, और लाभ दूसरों की तुलना में कुछ व्यवसायों पर अधिक लागू होते हैं। हम आगे AMP के pros and cons के बारे में गहराई से जानेंगे, लेकिन पहले कुछ मुख्य बिंदु प्रदान करते हैं जो आपको AMP के प्रति उन्मुख करने में मदद कर सकते हैं क्योंकि यह आपके व्यवसाय से संबंधित है:

एएमपी व्यापक रूप से उन प्रकाशक साइटों द्वारा अपनाया जाता है जिनमें समाचार लेखों या ब्लॉग पोस्टों की अधिक मात्रा होती है। यदि आपके अधिकांश वेबसाइट पृष्ठ लेख नहीं हैं, तो हो सकता है कि AMP आपके व्यवसाय के लिए आवश्यक न हो।
यदि आप अधिक मात्रा में लेख प्रकाशित करते हैं, लेकिन पहले से ही एक सीडीएन (कंटेंट डिलीवरी नेटवर्क) का उपयोग कर रहे हैं, तो ये प्लेटफ़ॉर्म अक्सर performance optimization features जैसे कि image hosting, file caching, और lazy loading।


AMP पेज पाठकों के लिए अधिक स्वच्छ और सरल होते हैं, लेकिन अक्सर इसलिए क्योंकि कुछ JavaScript फ़ंक्शन और प्लग इन को प्राथमिकता से हटा दिया जाता है या दबा दिया जाता है। यदि आप लीड कैप्चरिंग और ऑडियंस ट्रैकिंग के लिएथर्ड पार्टी टूल पर भरोसा करते हैं, तो आप यह सुनिश्चित करने के लिए परीक्षण करना चाहेंगे कि आपके AMP पेज काम करते हैं और आपके नियमित पेजों की तरह ही जानकारी कैप्चर करते हैं।


AMP अपने आप में Google रैंकिंग कारक नहीं है। यह आपके वेब पेजों के उन पहलुओं को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है जो Google के एल्गोरिथम में शामिल हैं (विशेषकर 2021 में कोर वेब वाइटल रैंकिंग कारक बनने के साथ), लेकिन यह आपकी साइट के अनुभव और परफॉरमेंस को ऑप्टिमाइज़ करने का एकमात्र तरीका नहीं है।

यदि आपके पास पहले से ही अपनी साइट का मोबाइल संस्करण या मोबाइल ऑप्टिमाइज़ेशन उपाय मौजूद हैं (जैसे consolidated or minified CSS code), तो एएमपी आवश्यक नहीं हो सकता है और इसके विपरीत ये ​प्रदर्शन और रिपोर्टिंग को जटिल बना सकता है।
जबकि एएमपी आपके एसईओ की मदद कर सकता है, यह जरूरी नहीं कि एसईओ के लिए आवश्यक हो, और इसके लाभ दूसरों की तुलना में कुछ व्यवसायों पर अधिक लागू होते हैं।

गूगल एएमपी के क्या फायदे हैं?

सामग्री उपभोक्ताओं के लिए तेज़ लोडिंग गति और बेहतर अनुभव के अलावा, एएमपी सामग्री और एसईओ रणनीति वाले व्यवसायों को कई लाभ प्रदान करता है:

website engagement में वृद्धि

लाइटवेट एएमपी सामग्री उन मोबाइल उपयोगकर्ताओं के साथ अच्छी तरह से मेल खाती है जिनके पास कम से कम स्थिर इंटरनेट कनेक्शन है। इसके अतिरिक्त, पेज लोड समय में कमी से उपयोगकर्ता अनुभव में इस तरह से सुधार होता है जिससे विज़िटर के आपकी साइट पर अधिक समय तक रहने की संभावना बढ़ जाती है।

बेहतर रैंकिंग और ट्रैफिक

साथ ही, पेज लोड समय Google रैंकिंग फैक्टर होने के कारण, AMP को Google के सर्च एल्गोरिदम में प्राथमिकता दी जाती है, जिससे रैंकिंग प्रभावित होती है।

कम बाउंस रेट

आपके पेज तेजी से लोड होने के साथ, विज़िटर्स आमतौर पर ऑनसाइट रहते हैं। एक बार Google के एक अध्ययन में पाया गया कि यदि किसी मोबाइल साइट को लोड होने में 23 सेकंड से अधिक समय लगता है, तो 53% वेबसाइट विज़िट छोड़ दी जाती हैं। इसके अतिरिक्त, AMP लागू करने वाले प्रकाशक संभावित रूप से किसी पृष्ठ पर बिताए गए समय में 2x वृद्धि प्राप्त कर सकते हैं। और आपकी वेबसाइट पर अधिक समय का मतलब आपकी सामग्री से अधिक कन्वर्शन हो सकता है।

ये भी पढ़ें: Bounce Rate Kya Hai

Increased ad views

एएमपी के साथ, एचटीएमएल को इस तरह से कोडित किया जाता है जो बैनर और छवियों की समग्र उपयोगिता को बढ़ाता है। इसके परिणामस्वरूप higher ad viewability rate प्राप्त होती है, जिससे प्रकाशकों को अपनी सामग्री से कमाई करने के अवसरों को बढ़ाने में मदद मिलती है।

Higher click-through rates

AMP का एक प्रमुख लाभ यह है कि यह Google मोबाइल SERP की शीर्ष कहानियों की सूची (या हिंडोला) में प्रदर्शित होता है – जो सभी खोज परिणामों में सबसे ऊपर दिखाई देता है। पाठकों द्वारा उन AMP पृष्ठों को पहले चुनने की बहुत अधिक संभावना होती है, जिससे क्लिक-थ्रू दरों में वृद्धि होती है।

Similar Posts

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.