|

Google Core Web Vitals kya hai

अपने यूजर को बेहतरीन Page Experience देने के लिए गूगल ने Google Core Web Vitals की शुरू किया है। अगर आपने अपने ब्लॉग को गूगल सर्च कंसोल में जोड़ा है। तो आपको Google Core Web Vitals और Page Experience ऑप्शन दिखाई देंगे।

गूगल कोर वेब वाइटल क्या है? और इससे यूजर को अच्छा अनुभव कैसे मिलेगा? वेब वाइटल के कितने प्रकार हैं? ऐसे कई प्रश्न आपके दिमाग में होंगे।

इस पोस्ट में हम इन सभी टॉपिक्स पर विस्तार से आपको बातएंगे।

Google Core Web Vitals क्या है?

Core Web Vitals उन फैक्टर्स का एक सबसेट है जो Google के “page experience” score का हिस्सा होगा। Core Web Vitals किसी पेज के यूजर एक्सपीयरन्स को मापने का एक तरीका है।

तीन प्रकार के Core Web Vitals हैं:

  • Largest Contentful Paint (LCP)
  • First Input Delay (FID)
  • Cumulative Layout Shift (CLS)

Core Web Vitals अभी SEO कम्युनिटी में एक हॉट टॉपिक हैं। जो user experience को बेहतर बनाता है।

साथ ही, जून 2021 के मध्य तक वे मोबाइल पर Google सर्च के लिए एक रैंकिंग फैक्टर बन जाएंगे।

इस चेंज को गोलोबली रोलआउट किया जाएगा।

Core Web Vitals assessment को पास करने के लिए, आपको सभी तीन कोर वेब वाइटलके लिए “अच्छा” स्कोर करना होगा।

Core Web Vitals क्यों महत्वपूर्ण हैं?

Google पेज के एक्सपीरयंस को एकऑफिसियल Google रैंकिंग फैक्टर बनाने की योजना बना रहा है।

एक बढ़िया पेज एक्सपीरयंस के लिए गूगल इन फैक्टर्स को चेक करेगा।

  • HTTPS : जिसका मतलब है आपकी साइट पर SSL Certificate होना जरुरी है।
  • Mobile-friendliness : आपकी वेबसाइट मोबाइल पर अच्छे से लोड हो।
  • interstitial pop ups : बहुत अधिक पॉप अप का प्रयोग ना हो।
  • Safe-browsing : आपके पेज पर किसी तरह का मैलवेयर ना हो।

इस प्रकार कोर वेबवाइटल उस स्कोर का एक सुपर महत्वपूर्ण हिस्सा होगा।

यह समझना जरुरी है कि एक बढ़िया page experience score आपको Google में #1 नहीं दिलाता है।

वास्तव में, Google पेज एक्सपीरयंस कई (लगभग 200) फैक्टर्स में से एक है, जो वे सर्च में साइटों को रैंक करने के लिए उपयोग करते हैं।

Google ने कहा है कि आपकी साइट के कोर वेब वाइटल स्कोर में सुधार करने के लिए आपके पास अगले साल तक का समय है।

लेकिन अगर आप इससे पहले अपने कोर वेब वाइटल्स में सुधार करना चाहते हैं तो ठीक है।

Core Web Vitals क्यों जरुरी है?

कोर वेब वाइटल्स के बारे में आपको (और सभी को) तीन मुख्य फैक्टर्स की चांच करनी चाहिए।

आपको ये समझना होगा की Core Web Vitals क्यों जरुरी है?

विज़िटर्स को तेज़ साइटें पसंद हैं जो किसी भी स्थान से, किसी भी डिवाइस पर, उपयोग करने में आसान और सुखद हों।
जैसा कि हमने बताया है, Google ने घोषणा की है कि Google Core Web Vitals जून 2021 के मध्य तक एक रैंकिंग फैक्टर बन जाएगा।

Google ने संकेत दिया है कि वे अपने सर्च रिजल्ट में “Good Page Experience”बैज प्रदर्शित करना शुरू कर सकते हैं।

हम इनको indirect ranking factors,” को कहते हैं, क्योंकि वे सर्च करने वाले के व्यवहार को प्रभावित करते हैं।

जैसे कि इस बैज वाले पेजेज को अधिक क्लिक मिलते हैं।

Core Web Vitals के सभी मेट्रिक्स की जानकरी

आइये अब वेब वाइटल के जितने भी महत्वपूर्ण फैक्टर्स हैं, उनको समझते हैं।

बिना इनकी अच्छी जानकारी के आप पेज एक्सपीरियंस को नहीं सुधार पाएंगे।

Largest Contentful Paint (LCP)

Largest Contentful Paint (LCP) एक कोर वेब वाइटल है जो स्क्रीन पर सबसे बड़े टेक्स्ट ब्लॉक या इमेज एलिमेंट को रेंडर करने के लिए पेज लोड होने से सेकंड में समय को मापता है।

इसका उद्देश्य यह मापना है कि पेज की मुख्य सामग्री लोड हो रही है या नहीं। एलसीपी जितना कम होगा, उतना बेहतर होगा।

एक LCP यूजर्स को आश्वस्त करता है कि ये एक उपयोगी पेज है, क्योंकि यह एक मीट्रिक है जो लोड स्पीड मापता है।

LCP फील्ड डेटा और लैब डेटा दोनों में उपलब्ध है।

LCP दूसरे pagespeed measurements से अलग है।

एलसीपी इस बात पर ध्यान केंद्रित करता है कि पेज लोड होने और इंटरैक्ट होने पर कितना समय लगता है।

आप Google PageSpeed Insights का उपयोग करके अपने LCP स्कोर की जांच कर सकते हैं।

Google के अनुसार, web page का Largest Contentful Paint 2.5 seconds से कम होना चाहिए|

First Input Display (FID)

इसके बाद, Google के दूसरे कोर वेब वाइटल: First Input Display पर एक नजर डालते हैं।

तो इस बिंदु पर, आपके पृष्ठ ने FCP हासिल कर लिया है। लेकिन सवाल यह है: क्या उपयोगकर्ता आपके पृष्ठ के साथ बातचीत कर सकते हैं?

वास्तव में FID यूजर को आपके पेज के साथ इंटरैक्ट करने में लगने वाला समय मापता है।

जिसमें यूजर द्वारा आपके पेज किये गए interactions शामिल हैं:

  • किसी मेनू ऑप्शन को चुनना
  • साइट के नेविगेशन में एक लिंक पर क्लिक करना
  • एक फ़ील्ड में अपना ईमेल दर्ज करना
  • मोबाइल उपकरणों पर “accordion text” खोलना

Google FID को महत्वपूर्ण मानता है।

क्योंकि यह इस बात को ध्यान में रखता है, कि रियल लाइफ यूजर वेबसाइटों के साथ कैसे संपर्क करते हैं।

हां, FID तकनीकी रूप से मापता है कि किसी पृष्ठ पर कुछ होने में कितना समय लगता है। तो इस अर्थ में यह page speed score है।

लेकिन यह उससे एक कदम आगे निकल जाता है और यूजर द्वारा आपके पेज पर वास्तव में कुछ करने के लिए लगने वाले समय को मापता है।

वास्तव में, मेरा खोज कंसोल मेरी साइट के लिए FID भी रिपोर्ट नहीं करता है।

आपके web page का ideal FID score 100ms से कम होना चाहिए|

Cumulative Layout Shift (CLS)


Cumulative Layout Shift (CLS)  visual stability को मापने के लिए एक महत्वपूर्ण, यूजर सेंट्रिक मीट्रिक है। क्योंकि यह निर्धारित करने में मदद करता है कि उपयोगकर्ता  unexpected layout shifts का अनुभव कितनी बार करते हैं। कम सीएलएस यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि पेज प्रयोग करने में आसान है।

ये एक कोर वेब वाइटल है जो एक पृष्ठ के पूरे जीवनचक्र के दौरान होने वाले व्यूपोर्ट के भीतर सभी unexpected layout shifts के cumulative score को मापता है।

इसका उद्देश्य किसी पृष्ठ की “visual stability,” को मापना है, क्योंकि यह यूजर के अनुभव को भारी रूप से प्रभावित करता है। सीएलएस फील्ड डेटा और लैब डेटा दोनों में उपलब्ध है। सीएलएस स्कोर जितना कम होगा, visual stability उतनी ही बेहतर होगी।

CLS को अन्य मैट्रिक्स की तरह सेकंड में नहीं मापा जाता है। यह व्यूपोर्ट के आकार से काम करता है, ऐसे एलिमेंट्स से संबंधित है जो दो फ्रेमों के मूव चलते हैं – जिन्हें unstable elements कहा जाता है – और व्यूपोर्ट में उनके मूवमेंट को मापता है। layout shift score दो कंपोनेंट्स : “impact fraction” और “distance fraction” का एक प्रोडक्ट है।

Web page के design elements में किसी तरह का बदलाव होना user को confuse कर सकता है| यह user को बहुत परेशान करता है और Google अब चाहता है की ऐसे page की search result ranking down की जाये|

impact fraction व्यूपोर्ट एरिया है जिसे unstable element दोनों फ़्रेमों में लेता है।

व्यूपोर्ट के सबसे बड़े dimension (width or height) से divided दोनों फ़्रेमों के बीच “distance fraction” सबसे बड़ी दूरी है जो unstable element मूव है:

Web page loading के दौरान होने वाले किसी भी तरह की layout shift, खासतौर से viewport की स्थिति में परिवर्तन के कारण, CLS score कम हो जाता है|

Web page का ideal CLS score 0.1 से कम होना चाहिए।

Google Core Web Vitals kya hai इसकी बेसिक जानकारी यंहा हमने दी है। अगर कोर वेब वाइटल से जुड़े आपके कोई सावल हैं, तो कमेंट में बताएं।

आप हमारे कोर वेब वाइटल के पॉडकास्ट को भी सुन सकते हैं।

पोस्ट को शेयर कीजिये। ताकि दूसरों को भी ये जानकारी मिल सके।

 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.