|

Plagiarism क्या है? | Best Free online Plagiarism Checker Tool

Plagiarism-Kya-Hai_-3-Best-Online-Copy-Content-Checking-Tools

अगर आप इंटरनेट पर कंटेंट बनांते हैं, या कंटेंट का उपयोग करते हैं। आपको Plagiarism के बारे में जानना चाहिए। इस पोस्ट में आप जानेंगे Plagiarism Kya Hai? Plagiarism कितने प्रकार के हैं। साथ ही Free online Plagiarism Checker Tool के बारे में भी आप जानेंगे।

Plagiarism क्या है?

ब्लॉगिंग फील्ड में Plagiarism एक लोकप्रिय टर्म है। Plagiarism का मतलब है किसी दसरे के काम को खुद के साथ जोड़ कर दिखाना। आसान भाषा में, किसी दूसरे के शब्द, विचार, लेखन, फोटोज, वीडियो और साहित्य को बिना उसके मालिक की अनुमति से इस्तेमाल करने को ही Plagiarism कहा जाता है.

आगर एक ब्लॉगर के शब्द में कहें तो “किसी के काम या कंटेंट को कॉपी करके अपने नाम साथ पब्लिश करना। किसी भी अन्य ब्लॉग या वेबसाइट से सामग्री को लेकर अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर प्रकाशित करना plagiarism (साहित्यिक चोरी) कहलाता है।”

plagiarism बहुत ही गलत है। इसे रोकने के लिए भी अलग-अलग स्तरों पर काई कदम उठाए गए हैं।

एसईओ एक्सपर्ट बताते हैं कि अपने ब्लॉग में यूनिक कंटेंट पोस्ट करना चाहिए। किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट से कंटेंट को कॉपी नहीं करना चाहिए। अखिर ऐसा कहने के पीछे क्या बात होगी आपने कभी सोचा है?

आप कोई भी सर्च इंजन का प्रयोग करते हों, गूगल, बिंग या याहू। ये आपके ओरिजिनल वर्क को समझता है और उनका सम्मान भी करता है। कॉपी की गई सामग्री वाली वेबसाइट या ब्लॉग को सर्च इंजन कभी रैंक नहीं करते और उन्हे पेनल्टी भी दे देते हैं।

ये आप समझते होंगे की कॉपी की गई कंटेंट को अपनी वेबसाइट या ब्लॉग पर पब्लिश करने से आपको कोई लाभ नहीं मिलने वाला है। उल्टा इसका नुकसान हो सकता है।

Plagiarism कितने प्रकार के हैं?

plagiarism  के विभिन्न प्रकार हैं और सभी academic honesty के गंभीर उल्लंघन हैं। हमने नीचे सबसे सामान्य प्रकारों को परिभाषित किया है।

Complete Plagiarism

Complete Plagiarism, plagiarism का सबसे गंभीर रूप है जहां एक शोधकर्ता एक manuscript लेता है या अध्ययन करता है जिसे किसी और ने बनाया है, और इसे अपने नाम के तहत प्रस्तुत करता है। यह intellectual theft और चोरी के बराबर है।

Source-based Plagiarism

विभिन्न प्रकार के स्रोतों के कारण Plagiarism हो सकती है। उदाहरण के लिए, जब कोई शोधकर्ता किसी ऐसे स्रोत का संदर्भ देता है जो गलत है या मौजूद नहीं है, तो यह एक misleading citation है। Plagiarism तब भी होती है जब कोई शोधकर्ता डेटा या सूचना के द्वितीयक स्रोत का उपयोग करता है, लेकिन केवल सूचना के प्राथमिक स्रोत का हवाला देता है। इन दोनों प्रकारों से references sources की संख्या में वृद्धि होती है। यह बदले में, references की citation number को बढ़ाता है।

अंत में, data fabrication और falsification भी plagiarism के रूप हैं। Data fabrication डेटा और शोध निष्कर्षों का निर्माण है, जबकि data falsification में गलत प्रभाव देने के लिए डेटा को बदलना या छोड़ना शामिल है। इस प्रकार के Plagiarism के परिणाम गंभीर हो सकते हैं, खासकर जब चिकित्सा अनुसंधान की बात आती है, क्योंकि यह clinical decisions पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है।

Direct Plagiarism

Direct or verbatim plagiarism तब होती है जब कोई लेखक किसी अन्य लेखक के पाठ की प्रतिलिपि बनाता है। quotation के उपयोग के बिना, इस प्रकार इसे अपने स्वयं के रूप में पारित करता है। इस तरह, यह complete plagiarism की तरह है, लेकिन यह किसी अन्य पेपर के सेक्शन को संदर्भित करता है। इस प्रकार का plagiarism को बेईमान माना जाता है और इसके लिए अकादमिक अनुशासनात्मक कार्रवाई की आवश्यकता होती है। यह उतना सामान्य नहीं है, लेकिन यह अकादमिक नियमों और नैतिकता का गंभीर उल्लंघन है।

Self or Auto Plagiarism

Auto-plagiarism, जिसे self-plagiarism या duplication के रूप में भी जाना जाता है। ये तब होता है जब कोई लेखक बिना किसी आरोप के अपने पहले प्रकाशित काम के महत्वपूर्ण हिस्से का पुन: उपयोग करता है। इस प्रकार, इस प्रकार की साहित्यिक चोरी में विश्वविद्यालय के छात्रों के बजाय प्रकाशित शोधकर्ताओं के शामिल होने की सबसे अधिक संभावना है। कॉपी की गई सामग्री के आधार पर, इस तरह के उल्लंघन की गंभीरता पर बहस चल रही है। हालांकि, कई अकादमिक पत्रिकाओं में पुन: प्रयोज्य लेखक के काम के प्रतिशत पर सख्त मानदंड हैं। कई पत्रिकाएँ review के लिए विचार करने से पहले manuscripts को plagiarism-detection software के माध्यम से चलाती हैं।

Paraphrasing plagiarism

यह plagiarism का सबसे आम प्रकार है। इसमें वाक्यों में कुछ मामूली बदलावों के साथ किसी और के लेखन का उपयोग करना और इसे स्वयं के रूप में उपयोग करना शामिल है। भले ही शब्द भिन्न हों, मूल विचार वही रहता है और plagiarism होता है। चूंकि छात्रों को अक्सर plagiarism के बारे में स्पष्ट समझ नहीं होती है, इसलिए paraphrasing plagiarism के जोखिम को कम करने के लिए शोध और लेखन के लिए सिफारिशें उपलब्ध हैं।

Inaccurate Authorship

Inaccurate Authorship या misleading attribution दो तरह से हो सकता है:

एक रूप में, जब कोई व्यक्ति manuscript में योगदान देता है, लेकिन इसका श्रेय नहीं मिलता है। दूसरा रूप इसके विपरीत है: जब किसी व्यक्ति को काम में योगदान दिए बिना क्रेडिट मिलता है। इस प्रकार की plagiarism, चाहे वह किसी भी तरह से हो, अनुसंधान में आचार संहिता का उल्लंघन है।

plagiarism के इस रूप को करना भी संभव है जब कोई अन्य व्यक्ति manuscript को एडिट करता है, जिससे वास्तविक परिवर्तन होते हैं। इस मामले में, प्रकाशन के समय योगदानकर्ताओं को स्वीकार करने की सिफारिश की जाती है, भले ही वे लेखकों के रूप में सूचीबद्ध न हों।

Mosaic Plagiarism

Mosaic Plagiarism का पता लगाना अधिक कठिन हो सकता है क्योंकि यह किसी और के वाक्यांशों या पाठ को अपने स्वयं के शोध के भीतर अंतःस्थापित करता है। इसे patchwork plagiarism के रूप में भी जाना जाता है। यह जानबूझकर की गई बेईमानी है।

Accidental Plagiarism

चाहे इरादा हो या ना हो, plagiarism के लिए कोई बहाना नहीं है और परिणाम अक्सर समान होते हैं। हालाँकि, plagiarism आकस्मिक हो सकती है यदि यह उपेक्षा, गलती या अनजाने में हुई व्याख्या के कारण हुई हो। छात्रों के accidental plagiarism करने की संभावना है, इसलिए विश्वविद्यालयों को साहित्यिक चोरी के इस रूप के बारे में शिक्षा के महत्व पर जोर देना चाहिए।

ये कुछ विभिन्न प्रकार की plagiarism हैं जो research community में आम हैं। आपने इनमें से कितने का सामना किया है? आपने उनके साथ कैसा व्यवहार किया? कृपया अपने विचार नीचे टिप्पणी अनुभाग में हमारे साथ साझा करें।

Plagiarism Checker Tool क्या होता है?

ऐसे कई टूल्स हैं जोआपको बता देते हैं की आपका कंटेंट ओरिजिनल है या कॉपी किया गया है। ऐसे टूल्स को ही हम Plagiarism Checker Tools कहते हैं। अगर आप इंटरनेट पर सर्च करेंगे तो ऐसे बहुत से टूल्स आपको ऑनलाइन मिल जाएंगे। जो आपके कंटेंट को एक साथ चेक करके बता सकते हैं कि आपका कंटेंट ओरिजिनल है या इंटरनेट पर उपलब्ध किसी वेबसाइट या ब्लॉग से कॉपी है।

एक अच्छे ऑनलाइन Plagiarism Checker Tools में क्या फीचर होने चाहिए।

  1. ये आपको कंटेंट को अलग-अलग तरीकों से एंटर करने देता है। जैसे की कंटेंट को टेक्स्ट बॉक्स में पेस्ट करना या फिर किसी डॉक्यूमेंट फ़ाइल को अपलोड करके आप चेक कर सकते हैं।
  2. आप अपने ब्लॉग या किसी पेज का लिंक डालकर Plagiarism Check कर सकते हैं।
  3. यहाँ कुछ सेकंड मुझे आपको परिणाम मिलते हैं।
  4. Plagiarism tool आपको बता देता है कंटेंट कहाँ से कॉपी किए गए हैं। साथ में आपको उन वेबसाइटों पर ब्लॉग का यूआरएल को भी बताता है।

Plagiarism Checker Tool का प्रयोग क्यों करें?

अब आप सोच रहे हैं की Plagiarism या Duplicate content checking tools क्यों प्रयोग करें।अगर आप ब्लॉगर, ऑथर हैं या आपकी वेबसाइट है तो आपको टूल्स जरुर करना चाहिए। Plagiarism Checker Tools का प्रयोग करने कई कारण हो सकते हैं।

अगर आपने अपने ब्लॉग या वेबसाइट के लिए कोई कंटेंट राइटर हायर किया हुआ है तो आप चेक कर सकते हैं की आपका कंटेंट राइटर कहीं से कंटेंट कॉपी करके तो नहीं अपडेट कर रहा है। यहाँ आप Plagiarism Checker Tools की मदद ले सकते हैं।

आप का कंटेंट कितना ओरिजिनल और यूनीक है आप इसकी जांच भी कर सकते हैं।

क्या आपका कंटेंट किसी और वेबसाइट पर है। आप इसकी जांच भी कर सकते हैं।

Best Free online Plagiarism Checker Tool

Plagiarism checking tools मुफ्त और प्रीमियममें उपलब्ध है। फ्री टूल्स भी कम नहीं हैं। लेकिन अगर आप कुछ और अच्छे फीचर्स चाहते हैं तो प्रीमियम टूल्स का इस्तेमाल करें।

यहाँ मैं आपको बेस्ट Plagiarism Checker Tools के बारे में बता ने जा रहा हूं। ये Plagiarism Checking tools बहुत ही उपयोगी और लोकप्रिय हैं।

Dupli Checker

यह इंटरनेट पर सबसे प्रभावी free plagiarism detection tools में से एक है। हालांकि इसमें एक फैंसी इंटरफ़ेस नहीं है, लेकिन यह निश्चित रूप से अच्छी तरह से काम करता है।

Pros


निःशुल्क: आपको कुछ भी भुगतान नहीं करना है। चाहे आप एक बार के उपयोगकर्ता हों या दैनिक आधार पर इस free plagiarism detection tool का अधिकतम लाभ उठाने की योजना बना रहे हों, आपको सदस्यता के लिए भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है।


उपयोग में आसानी: आपको एक बहुत ही बुनियादी, कार्यात्मक लेआउट के साथ प्रस्तुत किया जाता है जिसके लिए plagiarism detection tools के साथ किसी भी पिछले अनुभव की आवश्यकता नहीं होती है।


Plagiarism की जाँच करने के 2 तरीके

डुप्लीचेकर आपको अपने टेक्स्ट को फ़ील्ड में कॉपी और पेस्ट करने में सक्षम बनाता है और फिर इसे plagiarisms के लिए जाँचता है, या अपने कंप्यूटर से एक Docx या टेक्स्ट फ़ाइल अपलोड करता है।

यदि आप मुफ्त में साइन अप करते हैं, तो डुप्लीचेकर आपको एक ही दिन में 50 Plagiarism Scans की जांच करने की अनुमति देता है।

यदि आप साइन-अप नहीं करते हैं तो आप प्रति दिन केवल 1 Plagiarism Scan कर सकते हैं।

SmallSEOTools Plagiarism Checker

ये एक पॉपुलर और फ्री copied content checking tool है। SmallSeoTools में आप टेक्स्ट बॉक्स में कंटेंट डालकर चेक कर सकते हैं। इसके अलावा आप वर्ड या टेक्स्ट फाइल में डॉक्यूमेंट अपलोड कर सकते हैं।

इसका उपयोग करना भी बहुत आसान है। आप गूगल ड्राइव या ड्रॉपबॉक्स से भी फाइलें इम्पोर्ट कर सकते हैं। साथ ही इसका ऐप एंड्रॉयड और आईओएस दोनो के लिए उपलब्ध हैं।

Copyscape

Copyscape फ्री और प्रीमियम दोनों तरह का टूल है। एक ब्लॉगर के रूप में आप कॉपीस्केप पसंद करते हैं। इसकी सबसे अच्छी बात है। कोई भी ब्लॉग पोस्ट या पेज का आपको plagiarism चेक करना है तो आप उसका यूआरएल यहाँ एंटर करो और चेक कर लो की उस पेज का कंटेंट कॉपी है या नहीं।

फ्री वर्जन वाले टूल में ये 10 परिणाम दिखता है। कॉपी की गई कंटेंट के स्थान के साथ उसका यूआरएल भी देता है। तो फ्री टूल के लिए ये भी अच्छा है।

हां अगर आपके पास कोई यूआरएल नहीं है। इसकी जगह कोईडॉक्यूमेंट है तो आप किसी और टूल का प्रयोग कर सकते हैं।

कॉपीस्केप बहुत ही लंबे समय से उपयोग हो रहा है और बहुत ही लोकप्रिय है। जहाँ तक मेरा अनुभव है जो मैंने प्रयोग किया है ये बिलकुल सटीक परिणाम बताता है।

यहाँ तक की अगर आपका पोस्ट सोशल मीडिया पर भी जैसे फेसबुक या गूगल प्लस पर कॉपी कर के डाला हुआ है तो उसे भी चेक कर लेता है।

Grammarly

Grammarly मूल रूप से एक grammar checking tool है। जिसमे इनबिल्ट एक plagiarism checking tool भी है। ये अंग्रेजी में लिखे grammatically error detect कर सकता है और कॉपी की गई कंटेंट भी चेक कर सकती है।

जबकी grammarly एक प्रीमियम टूल है। इसमे जब आप कोई कंटेंट लिखते हैं है तो plagiarism checking के विकल्प कोइनेबल करने के बाद आप कॉपी की गई कंटेंट की जाँच कर सकते हैं।

जो हिंदी या हिंग्लिश में ब्लॉगिंग करते हैं। उनके लिए grammarly का उपयोग नहीं है। लेकिन अंग्रेजी कंटेंट राइटर के लिए ये एक बहुत ही पावरफुल टूल है। क्रोम, मोज़िला और सफारी जैसे ब्राउज़र के लिए इस्का एक्सटेंशन भी उपलब्ध है। साथ अगर आप वर्डप्रेस पर ब्लॉगिंग करते हैं तो इस्का प्लगइन भी इंस्टॉल कर सकते हैं।

व्याकरण से आप अंग्रेजी में सही सही लिखेंगे।

Aap kaun sa plagiarism checking tool use karte hain hume comment me jarur batayein. Saath hi humare blog post ke notification ko inbox me pane ke liye blog ki subscribe kijiye. Saath hi post ko share kijiye jissey dusron ki bhi help ho sake dhanyawaad.

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.